अदरक एक दवा अनेक – इस तरह से अलग-अलग बीमारियों से निजात दिलाती है अदरक!

ginger

अदरक से सभी लोग परिचित हैं| भोजन करने से पहले अदरक को कतर कर नमक मिलाकर खाने से भूख खुलती है| रुचि उत्पन्न होती है|

आहार का पाचन होता है| इसके सेवन से कफ और वायु के रोग नहीं होते| अदरक का मुरब्बा, पाक, चटनी, आचार आदि भी बनाया जाता है|

गावों में इसका उपयोग घरेलू औषधि के रूप में भी किया जाता है|

ज्वर: अदरक और पुदीने का काढ़ा बनाकर पीने से ज्वर उतर जाता है| यह शीत ज्वर में भी हितकारी है|

भूख न लगना: भूख ठीक तरह से न लगती हो, पेट में वायु भर जाती हो, कब्ज हो तो अदरक को बारीक काटकर नमक छिड़क कर 1-2 ग्राम खाने से कब्ज की शिकायत दूर हो जाएगी|

खांसी: अदरक का रस, नींबू का रस और शहद संभाग में लेकर उसमें पीपरि डालकर दिन में दो-तीन बार पीने से खांसी मिटती है| अदरक के रस में शहद मिलाकर चाटने से भी होती है|

मंदाग्नि: अदरक का रस, नींबू का रस और सेंधा नमक एक साथ मिलाकर भोजन की शुरुआत में लेने से मंदाग्नि दूर होती है और भूख खुलकर लगती है| इस नुस्खे से कफ व वायु विकार भी दूर होते हैं|

आवाज बैठना: अदरक का रस मधु में मिलाकर सेवन करने से बैठी हुयी आवाज़ खुलती है और सुरीली बनती है|

नज़ला-जुकाम: अदरक छील कर बारीक काट लें और कड़ाही में घी दाल कर भून लें| फिर अदरक के बराबर वजन की चीनी की चाशनी में अदरक डालकर पकाएँ| जब खूब पाक जाये तो सोंठ, सफेद जीरा, काली मिर्च, नागकेसर, जावित्री, बड़ी इलायची, तेजपत्ता, पीपरि, धनिया, काला जीरा और वायबिडग (प्रत्येक अदरक का 12वां भाग) मिलाकर-छान कर 7 से 15 ग्राम की मात्रा में नियमित सेवन करें| इससे पुराना से पुराना नजला-जुकाम भी ठीक हो जाता है|

उल्टी: अदरक और प्याज का रस मिलाकर पीने से उल्टी बंद होती है|

पेट दर्द: अदरक और पुदीने का रस मिलाकर पीने से उल्टी बंद होती है|

मसूड़ों की सूजन: 4 ग्राम सौंठ का चूर्ण पानी के साथ सेवन करने से मसूड़ों की सूजन तथा दांतों का दर्द दूर होता है|

लकवा: लकवा होने पर अदरक को पीसकर शहद के साथ मिलाकर रोगी को खिलाने से आराम मिलता है|

पतले दस्त: पतले दस्त होने पर अदरक कुचलकर पानी में उबालें| फिर रोगी को वह पानी दिन में तीन बार पिलाएँ| तुरंत फायदा होगा|

गठिया: गठिया रोग में अदरक के बारीक टुकड़े करके गाय के घी में भूनकर खाने से लाभ होता है| अदरक को तिल के तेल में गर्म करके उस तेल से जोड़ों में मालिश करने से भी फायदा होता है|

फ्लू: फ्लू या इन्फ़लूएंजा होने पर अदरक, तुलसी के पत्ते, काली मिर्च व लौंग इन सभी की चाय बनाकर दिन में 3 से 4 बार पिलायें| फ्लू से जल्दी राहत मिलेगी|

कब्ज़: कब्ज़ की शिकायत होने पर अदरक, अजवायन और गुड़ समान मात्रा में लेकर कूट लें| फिर थोड़े से घी में भूनकर पानी डालकर पका लें| इसको नियमित खाने से कब्ज़ दूर होती है|

आप अदरक को इन सभी तरह की बीमारियों से निजात पाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं| अगर आपकी समस्या बहुत अधिक नहीं है तो इस तरह के घरेलू नुस्खों से ही आपको आराम मिल जाएगा|

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*