2022 में इन योगा आसनों से सेहत दुरुस्त बनाएँ!

yoga in 2022

आज के समय में जहां रोग-प्रतिरोधक क्षमता का कमज़ोर होने बहुत सारी बीमारियों को बुलावा देने जैसा है खासकर कोरोना और उससे उपजे नए वेरियंट आपकी समस्या को बढ़ा सकते हैं| इसलिए आज हम बात करेंगे कुछ ऐसे योगा आसनों की जिससे की आपकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता तो बढ़ेगी ही साथ ही ये आपकी सेहत में भी सुधार होगा|

किसी भी तरह का बदलाव फिर वो आपके खाने में हो या मौसम एन आपकी सेहत को जकड़ सकता है और आपको सर्दी-जुखाम जैसी दिक्कत हो सकती है जो की है तो आम समस्या पर काम-काज लोगों का बहुत सा समय खा सकती है| आजकल तो कोरोना के नए वेरियंट ओमिक्रोन का भी खतरा लोगों के बीच चिंता का कारण बना हुआ है यहीकरन है की लोगों का अपनी सेहत के प्रति सचेत होने पहले से कहें ज़्यादा जरूरी हो गया है| यही कारण है की अपनी सेहत के प्रति पहले से आगाह रहना अत्यधिक ज़रूरी हो गया है|

सर्दियों के मौसम में सेहत का ध्यान देना और भी ज़रूरी है क्यूंकी बहुत से लोग सर्दियों में ढीले पड़ जाते हैं और खान-पान पर और शारीरिक व्यायाम पर ध्यान नहीं देते हैं जिससे की उनकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता पर असर पड़ता है और मेटाबोलिस्म भी प्रभावित होता है जो आपको बहुत सारी बीमारियों से बचाने के काम करता है|

इस तरह के मौसम में योगा आसनों से आप अपनी सेहत में सुधार कर सकते हैं और शरीर को चुस्त-दुरुस्त रख सकते हैं| योगा आसन आपके शरीर का लचीलापन बढ़ाते हैं और इम्यूनिटी बूस्ट करने में भी मदद मिलती है| चलिये जानते हैं 5 ऐसे योगा आसन जिनसे आपकी सेहत में सुधार होगा|

इन 5 योगा आसनों को करने से सेहत दुरुस्त रहेगी:

1.       बालासन:

बालासन करने से आपका दिमाग शांत होता है और आप रिलैक्स महसूस करते हैं| इसके साथ ही इस आसान को करने से टखनों, जांघों और कूल्हों में खिचाव होता है जिससे जिससे मसल्स को रिलैक्स फील होता है| इस आसन को करने से आपको गर्दन और पीठ के दर्द से राहत मिलती है|

2.       धनुरासन:

धनुरासन उन लोगों के लिए हितकारी है जिन्हें पाचन से जुड़ी दिक्कत है क्यूंकी धनुरासन करने से आपका पाचनतंत्र बेहतर होता है इसके साथ ही ये आपको पेट की बीमारी जैसे अजीर्ण और अपच जैसी दिक्कतों से दूर रखता है| धनुरासन मोटापा कम करने में भी सहायक है और ये उन लोगों के लिए हितकारी हैं जिन्हें अत्यधिक भूख लगती है क्यूंकी ये अत्यधिक भूख को कम करने में मदद करता है|  

3.   सेतु बंधन आसन:

सेतु बंधन आसन करने से आपकी रीढ़ की हड्डी में खिचाव पैदा होता है और इसके साथ ही सीने और गर्दन में भी खिचाव पैदा होता है जो की इन अंगों के लिए अच्छा है| सेतु बंधन आसन से आपकी पाचन क्रिया दुरुस्त होती है और मेटाबोलिस्म अच्छा होता है| अगर आपको कमर दर्द, थकान, नींद न आने की बीमारी और एंग्जाइटी की समस्या है तो सेतु बंधन आसन करने से इन सभी चीजों से राहत मिलती है| इस आसान से रीढ़ की हड्डी का लचिलापन बढ़ता है और मजबूती भी मिलती है साथ ही दिमाग शांत होता है|

4.   भुजंगासन:

भुजंगासन करने से आपकी रीढ़ की हड्डी को मज़बूती मिलती है और इसके साथ ही आपके फेफड़ों, पेट व कंधों में खिचाव होता है| भुजंगासन आपके नितंबों को मज़बूती देता है और आपके पेट के अंगों को उत्तेजित करता है| भुजंगासन सायटिका में भी हितकारी होता और आपकी थकान और तनाव को दूर करने में सहायक होता है| जिन लोगों को अस्थमा की दिक्कत है उनके लिए भी भुजंगासन अच्छा होता है|

5.   श्वासन:

श्वासन करने से न सिर्फ तनाव कम होता है इसके साथ ही आपको हल्के अवसाद राहत पाने में मदद मिलती है और दिमाग भी शांत होता है| श्वासन करते वक़्त आपका मन शांत होता है और तनाव कम होता है और शरीर को आराम भी मिलता है| श्वासन से थकान महसूस होती है, अनिन्द्र भी दूर होती है|

हम आशा करते हैं की इस साल आप अपनी सेहत में सुधार करेंगे और इन योगा आसनों से आपको अपनी सेहत में सुधार केरने में मदद मिलेगी|

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*