गठिया या जोड़ों के दर्द के लिए ये 16 घरेलू नुस्खे रामबाण हैं!

Joint Pain

जोड़ों की पीड़ा से काफी सारे लोग परेशान रहते हैं| जोड़ों के दर्द से परेशान लोगों को रोज़मररा के काम करने से भी दिक्कत होती है| जिन रोगों में जोड़ो के अद्र्द का प्रमुख लक्षण मिलता है – उनमें से एक है गठिया|

जोड़ो के दर्द का मुख्य कारण:

वायु जोड़ो के दर्द कारण होती है| हड्डियाँ और जोड़ों में वायु का निवास होता है और जब इसमें असंतुलन पैदा होता है, इससे जोड़ों में दर्द उत्पन्न होता है|

अंत: वायु के बिगड़ने वाले कारण जोड़ो में दर्द उत्पन्न करते हैं| जैसे- रूखे और ठंडे पदार्थों का अधिक सेवन, चने और कुरमुरे जैसे पदार्थ, सहवास की अधिकता, अधिक जागना, अधिक श्रम चोट आदि|

जोड़ो के दर्द के लक्षण:

·         शुरू में बुखार, बदन दर्द, और अरुची जैसे लक्षण मलते हैं|

·         फिर जोड़ों में कभी कभार हल्का दर्द या जकड़न जैसे लक्षण मिलते हैं|

·         कुछ लोगों को किसी एक दिशा में मुड़ने से या किसी एक स्थिति में दर्द होता है|

·         लेकिन जब रोग पूरी तरह से रोगी को ग्रसित कर लेता है, तो जोड़ों में सूजन आ जाती है|

·         अंग संचालन के समय वेदना होती है|

·         हाथ-पाँव फैलने या मोड़ने-सिकोड़ने में भी दर्द होता है|

·         कई  बार जोड़ों में कट-कट की आवाज़ भी आती है|

जोड़ों के दर्द के घरेलू नुस्खे:

1.   अदरक का रस या सौंठ, काली मिर्च बायविडंग तथा सीनधा नमक का चूर्ण बनाकर रख लें| इस चूर्ण को 3-3 ग्राम की मात्रा में शहद में मिलाकर चाटें|

2.   अजवायन के तेल की मालिश से भी जोड़ों का दर्द ठीक होता है|

3.   गठिया और संधिवात में नीम के तेल की मालिश भी बहुत लाभकारी होती है|

4.   शीतकाल में जोड़ों के दर्द में एक मुट्ठी अजवायन तथा एक बड़ा चम्मच नमक पानी में डाल कर उबाल लें| उसपर जाली रखकर कपड़ा निचोड़कर, तह करके गरम करें तथा उससे सेक करें| दर्द दूर हो जाएगा|

5.   आक की बंद कलियाँ, अडूसे के सूखे पत्ते, काली मिर्च उयर सौंठ सामान्य मात्रा में लेकर पीस लें तथा उसमें ज़रा सा पानी मिलाकर  मटर के बराबर गोलियां बन लें| एक गोली हर रोज़ सूर्यास्त के बाद सेवन करें| ये बहुत सस्ता व लाभकारी उपाए है|

6.   गुथनों, हाथों की उँगलियों या बाहों के जोड़ों में तीस भरा दर्द उठता हो और कोई भी कार्य करने में या वज़न उठाने पर जोड़ों में दर्द होता हो तो आप कोई भी इलाज करें, कैसे भी दवाई अथवा इंजेक्शन लें, कोई खास फायदा नहीं होगा, पर आप दिन में 4 से 5 बार टमाटर के सेवन सेवन करते रहें या टमाटर के एक ग्लास जूस सुबह-शाम सेवन करें तो एक पखवाड़े एके भीतर आप्क ओश्चर्यजनक रूप से लाभ होगा|

7.   शरीर के किसी भी अंग में दर्द की तीस उठती हो तो आप सुबह-शाम पीसे हुये आंवले का चूर्ण कुंकुने पानी एक साथ फांक लें| फिर कुछ देर बाद कुटी-पीसी हुयी इलायची दूध में डालकर पियें| इस प्रयोग से अंगों में सफुरती बनी रहेगी और शरीर के किसी भी अंग में दर्द की तीस नहीं उठेगी|

8.   कनेर की पत्ती उबालकर पीस लें और मीठे तेल में मिलाकर लेप करें, इससे दर्द जाता रहेगा|

9.   लहसुन पीसकर लगाने से शरीर के हर अंग का दर्द जाता रहेगा| किन्तु जल्द हटा लेना चाहिए, नहीं तो फफोले पड़ने का दर बना रेहता है|

10.   राई का लेप करने से हर ओरकार का दर्द मिट जाता है|

11.   गठीय आके दर्द में एरणडी का छिला हुआ बीज पहले दिन एक, दूसरे दिन दो, इस प्रकार सात बीज तक खाएं|  फिर प्रतिदिन एक-एक बीज कम करके एक बीज पर ले आयें| इससे गठिया का दर्द हमेशा के लिए गायब हो जाएगा|

12.   अजवायन को पानी में डालकर पका लें और उस पानी की भाप दर्द वाले स्थान पर दें, देखते ही देखते दर्द कफूर हो जाएगा|

13.   कडवे तेल में अजवायन और लहसुन जलाकर उस तेल की मालिश करने से हर प्रकार के दर्द से छुटकारा मिल जाता है|

14.   लहसुन की दो कलियाँ कुचल कर तिल के तेल में डालकर गरम करें और उससे जोड़ों की मालिश करें|  इससे बहुत लाभ होगा|

15.   दर्द से परेशान रोगी को चाहिए कपड़े को गरम करके जोड़ों के दर्द वाले स्थान पर सीकें| इसके साथ ही गरम पानी के थैली का भी प्रयोग करें|

16.   10 मि.ली. एरंड के तेल को साँठ के काढ़े में मिलाकर प्रतिदिन सुबह पियें|

पथ्या-अपथ्य:  

·         जोड़ों के दर्द से बचने और इससे पीड़ित रोगी को को पीड़ा से छुटकारा दिलाने के लिए रोग-उत्पादक करणों को टालना चाहिए|

·         खट्टा, तीखा, ठंडा, रूखा आहार नहीं लेना चाहिए|

·         चर्बी बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ से परहेज करना चाहिए|

·         पोष्टिक और पचने में आसान चीजों को खाने में शामिल करना चाहिए|

·         शारीरिक श्रम वाले कामों से बचना चाहिए|

·         साथ ही जागरण एवं मानसिक तनवों से भी दूर रहना चाहिए|

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*