सर्वाइकल पेन क्या है? सर्वाइकल पेन का घरेलू उपचार, कारण और लक्षण!

Cervical pain

आज बहुत सारी ऐसी बीमारियाँ गंभीर समस्या बन गयी हैं जिन्हें कुछ साल पहले तक बीमारी की श्रेणी में भी गिना नहीं जाता था| इनमें से कुछ मुख्य दिक्कतें हैं जैसे की बैक पेन, लोअर बैक पेन, सर्वाइकल पेन, और जाइंट पेन| सर्वाइकल पेन में काफी ज़्यादा दर्द होता है, कई बार पेन किलर खाने के बाद भी पूरा आराम नहीं मिल पता है|

इसलिए आज हम सर्वाइकल पेन के बारे में बात करेंगें, जैसे की सर्वाइकल पेन क्या है? सर्वाइकल पेन के लक्षण क्या होते हैं? और सर्वाइकल पेन का सबसे बेहतरीन इलाज या घरेलू उपाए|

तो पहले की हम ये जाने कि सर्वाइकल पेन का इलाज और इसके लक्षण क्या हैं, पहले ये जानते हैं कि सर्वाइकल पेन क्या है?

सर्वाइकल पेन एक तरह से हड्डियों से जुड़ी हुयी दिक्कत है और इसके कारण सर्वाइकल पेशंट को कंधों और गर्दन में गंभीर दर्द होता है| इसलिए हम इसे सर्वाइकल पेन भी कहते हैं| आज कल खराब पॉस्चर, खराब खान-पान लोगों कि हैल्थ पर बुरा असर डाल रहा है जिस कारण हर तीसरा व्यक्ति सर्वाइकल पेन का शिकार बन रहा है|

कुछ ऐसे कारण जिसकी वजह से सर्वाइकल पेन होने के आसार बड़ जाते हैं वो है, बहुत देर तक एक ही गलत पॉस्चर में बैठना, या फिर झुक कर बैठना| ऐसे ही गलत पॉस्चर में बैठने कि वजह से  सर्वाइकल पेन जैसी समस्या बहुत से लोगों को हो रही है|

यही कारण है कि सर्वाइकल पेन के लक्षण, कारण और इसका घरेलू और हर्बल उपाए कि जानकारी होना और भी ज़रूरी है|

सर्वाइकल पेन के कारण क्या हैं? What are the  causes of cervical pain?

  • ज़्यादा देर तक गलत पॉस्चर में सोना या बैठना सर्वाइकल पेन का कारण बन सकता है|
  • कई बार बहुत भरी वज़न सर पर उठाने से भी सर्वाइकल पेन कि समस्या हो सकती है|
  • मोबाइल इस्तेमाल करते वक़्त या लैपटाप पर काम करते वक़्त बहुत देर तक गर्दन झुकाने के कारण भी सर्वाइकल पेन कि समस्या हो सकती है |
  • ज़्यादा देर तक एक ही पॉस्चर या पोसिशन में बैठना भी सर्वाइकल पेन का कारण बन सकता है|
  • सोते वक़्त बहुत उचे और बड़े तकिये का इस्तेमाल करने से भी सर्वाइकल पेन हो सकता है|
  • बाइक या स्कूटी चलाते वक़्त बहुत भारी हेलमेट का इस्तेमाल करना भी सर्वाइकल पेन का कारण बन सकता है|
  • दिन भर में अगर आप ज़्यादातर गलत पॉस्चर में उठते-बैठते हैं तो यह सर्वाइकल पेन का मुख्य कारण बन सकता है|

सर्वाइकल पेन के लक्षण क्या हैं? – What are the symptoms of cervical pain?

  • सर में दर्द होना|
  • अगर गर्दन को हिलाने पर गर्दन में से हड्डियों के टिडक्ने कि आवाज़ आए|
  • अक्सर उंगलियों में, हाथ में और बाजुओं में कमज़ोरी महसूस करना या इनका सुन्न पड़ जाना|
  • कन्धों और गर्दन में अकड़न महसूस होना|

अक्सर लोग सर्वाइकल पेन होने पर पेन किलर और अन्य एलोपैथिक दवाएं खाते हैं, जिन कारण उन्हें बहुत सारे साइड इफेक्ट का सामना करना पड़ता है| जिससे उन लोगों को अन्य स्वस्थ संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है|

इसलिए आज हम कुछ घरेलू नुस्खों के बारे में जनेंगें जिससे आप सर्वाइकल पेन को हमेशा के लिए अलविदा कह सकते हैं| एलोपैथिक दवाएं ज़रूरत से ज़्यादा महंगी होती है और बहुत से केस ऐसे होते हैं जिनमें एलोपैथिक दवाओं से भी सर्वाइकल पेन से पेरमानेंट आराम नहीं मिलता है|

इन 6 घरेलू उपाए से सर्वाइकल पेन का होगा खातमा! – Home remedies for cervical pain treatment

  1. सोने का तरीका: अधिकतर लोग मुलायम और ऊंचे तकिये का इस्तेमाल करते हैं| इसके साथ ही लोग नरम बिस्तर का इस्तेमाल करते हैं| ये दोनों ही चीज़ेंसर्वाइकल पेन का कारण बन सकती हैं| बेहतर होगा कि ऊंची तकिया का त्याग कर दें और सख्त गद्दे पर सोने कि आदत डाल लें|

सर्वाइकल पेन से बचने के लिए पेट के बल न सोएँ, पीठ के बल करवट कर सोएँ, पेट के बल सोने से ये आपकी गर्दन को फैलाता है| कोशिश करें कि ज़मीन के तल पर अपना सर रखकर सोएँ या फिर ऐसे तकिये का प्रयोग करें जो आपकी पीठ को 15 डिग्री तक मोड़ दे|

ऐसा करने से जिन्हें सर्वाइकल पेन है उन्हें दर्द से राहत मिलेगी और जिन्हें सर्वाइकल पेन नहीं है वो इससे बचे रहेंगें|

  • सिंकाई: सर्वाइकल पेन को कम करने के लिए आप अपनी गर्दन पर ठंडे या गरम पदार्थ को लेकर अच्छे से सिंकाई कर सकते हैं| किसी एक पदार्थ से सिंकाई करने से अच्छा है कि बारी-बारी ठंडे और गरम पदार्थ का प्रयोग करें|
  • मसाज: कोई भी तेललें और उसे मसाज के लिए इस्तेमाल करें, मसाज करने से सर्वाइकल पेन में बहुत रिलीफ़ मिलता है| इसके साथ ही अगर आपको शरीर में कहीं भी और दर्द हो रहा हो तो आप वहाँ भी तेल से मसाज कर सकते हैं|
  • पानी पियें: अक्सर आपने सुना होगा की कम पानी पीने से भी बहुत सी दिक्कतें हो सकती हैं| इसलिए रोजाना जितनी ज़रूरत हो उतनी मात्रा में पानी पीना ज़रूरी है| हमारे शरीर में होने वाले ज़्यादातर काम में पानी, एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है|

हमारे जोड़ों और रीढ़ की हड्डी के बीच में जो डिस्क और जाइंट होते हैं उनमें भी ज़्यादातर हिस्सा पानी का ही होता है| अगर आप रोजाना कम पानी पीते हैं तो इससे आपके शरीर की कार्य क्षमता में कमी हो सकती है| इसलिए जितना हो सके आपको रोजाना खूब पानी पीना चाहिए|

  • स्ट्रेस कम करें: ये सुनने में थोड़ा अजीब लगेगा पर सर्वाइकल पेन का कारण स्ट्रैस भी हो सकता है| तनाव के कारण सर्वाइकल पेन होना लगभग 60% मामलों में देखा गया है|

इसलिए ज़रूरी है की अगर आपको स्ट्रैस हो तो आप उसे कम करने के लिए कुछ ज़रूरी चीजों पर ध्यान दे जैसे की सही आहार, एक्सॅसाइज़, मेडिटेशन, सपोर्ट, डांस हर एक चीज़ जो आपके तनाव को कम करने में सहायक है उसे आपने दिनचर्या में शामिल करें| 

  • स्ट्रेच एक्सरसाइज: अच्छे खान-पान के साथ शरीर को छोटी-छोटी स्ट्रेच एक्सरसाइज के साथ लचीला भी बनाएँ रखें ऐसा करने से सर्वाइकल पेन में भी आराम मिलता है| इसके साथ ही अगर आप रोजाना थोड़ी बहुत स्ट्रेच एक्सरसाइज करते हैं तो यह आपको किसी भी तरह के दर्द से बचाए रखता है|

इन ज़रूरी आदतों को आपने दिनचर्या में शामिल करें:

  • कोशिश करें की ज़्यादा वज़न वाला समान न उठाएँ|
  • योगा के कुछ आसन जैसे की मत्स्यासन, वज्रासन और चक्रासन ज़रूर करें इसके साथ ही गर्दन को गोल-गोल घूमने की एक्सरसाइज भी करें|
  • रोज़ सुबह सूर्योदय से पहले उठें और कम से कम 3 किलोमीटर तेज़-तेज़ पैदल चलें|
  • कोशिश करें की कोई भी काम करते वक़्त बहुत ज़्यादा देर तक उसी पॉस्चर में बैठना अवॉइड करें|
  • अगर आप घरेलू महिला हैं तो कोशिश करें की थोड़ी-थोड़ी देर के लिए काम के बीच आराम कर लें पर बहुत देर के लिए दिन के समय न सोएँ|
  • अगर आप सफाई पसंद हैं तो कोशिश करें की बैठ कर पोछा लगाएँ|

ये सभी सावधानियाँ और घरेलू उपाए आपको सर्वाइकल पेन से बचाए रखेंगें और वो लोग जिन्हें सर्वाइकल नहीं हैं वो इस समस्या से बचे राहेंगें|

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*